उन्होंने सवाल किया, सरकार अतिरिक्त राजस्व, खासकर कर से इतर राजस्व संग्रह के लिए क्या कर रही है? तृणमूल सांसद ने वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण के क्या भारत में विदेशी मुद्रा व्यापार करना कानूनी है एक बयान का उल्लेख करते हुए कहा, हम लोगों का प्रतिनिधित्व करते हैं. हमारा यह अधिकार है कि सरकार क्या भारत में विदेशी मुद्रा व्यापार करना कानूनी है की अक्षमता को लेकर उससे सवाल करें. यह सरकार का राजधर्म है कि वह जवाब दे. वह ‘खिसियानी क्या भारत में विदेशी मुद्रा व्यापार करना कानूनी है बिल्ली’ की तरह व्यवहार नहीं करे.

क्या भारत क्या भारत में विदेशी मुद्रा व्यापार करना कानूनी है में विदेशी मुद्रा व्यापार करना कानूनी है

Website is Owned and Content Managed by विधायी विभाग, कानून और न्याय मंत्रालय, भारत सरकार अभिकल्पित, विकसित और परिचारित राष्ट्रीय सूचना क्या भारत में विदेशी मुद्रा व्यापार करना कानूनी है विज्ञान केन्द्र (एनआईसी) Last Updated: 09 May 2018

जानिए डिजिटल करेंसी और पेमेंट्स एप में अंतर, क्‍या कहते हैं जानकार

बिजनेस वर्ल्ड ब्यूरो

by बिजनेस वर्ल्ड ब्यूरो ।।
Published - Saturday, 17 December, 2022

digital rupee

हाल ही में भारतीय रिजर्व बैंक ने डिजिटल करेंसी लॉन्‍च की है. सेंट्रल बैंक द्वारा जारी की गई यह डिजिटल करेंसी एक तरह का कानूनी दस्‍तावेज है. डिजिटल करेंसी एक तरह की सामान्य करेंसी की तरह ही है और इसे एक दूसरे को ट्रांसफर भी किया जा सकता है. डिजिटल करेंसी भी ठीक उसी तरह काम करती है जैसे हम नोट या फिर अलग-अलग तरह की सिक्कों को इस्तेमाल करते हैं. लेकिन सवाल यह खड़ा होता है कि अगर डिजिटल करेंसी वैसी ही है तो फिर ये यूपीआई UPI, आरटीजीएस RTGS और नेफ्ट NEFT से कैसे अलग है.

देश / ममता की सांसद महुआ मोइत्रा ने सरकार से क्या भारत में विदेशी मुद्रा व्यापार करना कानूनी है पूछा- 'असली पप्पू' कौन है

ममता की सांसद महुआ मोइत्रा ने सरकार से पूछा-

Mahua Moitra Statement: तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) की सांसद महुआ मोइत्रा ने आर्थिक संकेतकों और अर्थव्यवस्था को संभालने के सरकार के तौर-तरीकों को लेकर मंगलवार को उस पर निशाना साधा. टीएमसी सांसद ने सवाल किया कि अब ‘असली पप्पू’ कौन है. लोकसभा में 2022-23 के लिए अनुदान की अनुपूरक मांगों के पहले बैच और 2019-20 के लिए अनुदान की अतिरिक्त मांगों पर सोमवार को अधूरी रही चर्चा को आगे बढ़ाते हुए महुआ मोइत्रा ने कहा, किसी को नीचा दिखाने के लिए ‘पप्पू’ शब्दावली का इस्तेमाल किया गया. आंकड़ों के जरिए पता चलता है कि ‘असली पप्पू’ कौन है?

राष्ट्रीय सांख्यिकी कार्यालय (एनएसओ) कार्यालय की ओर से जारी आंकड़ों का हवाला देते हुए उन्होंने दावा किया कि अक्टूबर महीने में औद्योगिक उत्पादन चार प्रतिशत गिर गया जो 26 महीनों के न्यूनतम स्तर पर है. उन्होंने कहा, विदेशी मुद्रा भंडार में एक साल के भीतर 72 अरब डॉलर की कमी आई है.

नये निवेशकों की तलाश में एलन मस्क, ट्विटर में हिस्सेदारी बेचने की कवायद में जुटे

LagatarDesk : एलन मस्क को ट्विटर खरीदना भारी पड़ रहा है. 2021 के बाद पहली बार एलन मस्क से सबसे रईस इंसान का ताज छिन गया. फोर्ब्स की रियल टाइम इंडेक्स में वे दूसरे पायदान पर आ गये. इतनी बड़ी कीमत चुकाने के बाद एलन मस्क अब नये उपाय ढूंढ़ रहे हैं. रिपोर्ट्स की मानें तो एलन मस्क नये इन्वेस्टर्स की तलाश में हैं. जो उन्हें वही कीमत दे, जो एलन मस्क ने ट्विटर के लिए चुकायी थी. मस्क ने अपने फैमिली-ऑफिस मैनेजिंग डायरेक्टर को यह जिम्मेदारी सौंपी है. कहा जा रहा है कि मस्क के मनी मैनेजर जेरेड बिर्चेल ने इसको लेकर कुछ इन्वेस्टर्स से मुलाकात की है. नये निवेशक तलाशने का मतलब है कि एलन मस्क ट्विटर में कुछ हिस्सेदारी बेच सकते हैं. या फिर ट्विटर को ही बेच दें. बता दें कि एलन मस्क ने ट्विटर को 54.20 डॉलर में टेकओवर किया था. (पढ़ें, लातेहार : संपत्ति विवाद में बड़े भाई ने छोटे भाई को मारी गोली, मौत)

आ सकता है ट्विटर का एफपीओ

रिपोर्ट के अनुसार, आने वाले दिनों में ट्विटर का एफपीओ लाया जा सकता है. इस एफपीओ का प्राइस बैंड 54 से 55 डॉलर प्रति डॉलर हो सकता है. बता दें कि एलन मस्क ने अप्रैल में ट्विटर का टेकओवर करने का ऐलान किया था. उसके बाद एलन मस्क ने डील से बाहर निकलने का फैसला किया था. फिर यह मामला कोर्ट में चला गया. जिसके बाद मस्क ने अक्टूबर में कंपनी को 44 अरब डॉलर में ट्विटर को खरीद लिया. मस्क ने ट्विटर को खरीदने के लिए टेस्ला के शेयरों को बेचा. जिसकी वजह से टेस्ला के शेयरों में इस साल 57 फीसदी की गिरावट आयी.

नये निवेशकों की तलाश ऐसे समय में शुरू हुई है, जब ट्विटर को भारी उथल-पुथल का सामना करना पड़ रहा है. छंटनी और कंटेंट मॉडरेशन पर मस्क को काफी आलोचना का सामना करना पड़ा है. एलन मस्क ने ट्विटर की कमान संभालने के बाद कई बदलाव किये हैं. पहले मस्क ने ट्विटर के सीईओ पराग अग्रवाल समेत चार लोगों को बाहर का रास्ता दिखाया. इसके बाद कंपनी के सभी बोर्ड ऑफ डायरेक्टर्स की छुट्टी कर दी है. वहीं एलन मस्क ट्विटर के 25 फीसदी कर्मचारियों को नौकरी से निकाल दिया. इसके अलावा मस्क ने ट्विटर के कंटेंट मॉडरेशन में भी बदलाव किया. इतना ही नहीं एलन मस्क ने ब्लू टिक सब्सक्रिप्शन भी लॉन्च की.

'सवाल यह नहीं है कि बस्ती किसने जलाई, सवाल है कि पागल के हाथ में माचिस किसने दी' - महुआ ने सुनाई सरकार को खरी-खोटी

संसद टीवी का स्क्रीनशॉट

संसद टीवी का स्क्रीनशॉट

नवजीवन डेस्क

सवाल यह नहीं है कि बस्ती किसने जलाई, सवाल है कि पागल के हाथ में क्या भारत में विदेशी मुद्रा व्यापार करना कानूनी है माचिस किसने दी. इन शब्दों के साथ तृणमूल कांग्रेस की सांसद महुआ मोइत्रा अपने उस हमलावर भाषण को लोकसभा में खत्म किया जो उन्होंने सरकार की तरफ से पेश अनुपूरक मांगों को लेकर दिया था।

महुआ नेमंगलवार को देश की अर्थव्यवस्था को संभालने के सरकार के तौर-तरीकों पर तीखा निशाना साधा। उन्होंने सरकार की नाकामी को आंकड़ों के जरिए सामने रखते हुए कहा कि 'बताओ कि असली पप्पू कौन है'? उन्होंने कहा कि किसी को नीचा दिखाने के लिए पप्पू शब्द का इस्तेमाल किया गया।

रेटिंग: 4.57
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 641