क्रिप्टो करेंसी क्या है

क्रिप्टो करेंसी क्या है और कैसे काम करती है/Cryptocurrency kya hai or yeh kese kam karti hai

आयदिन समाचारों तथा विभिन्न सोशल मीडिया स्थानों पर एक शब्द बहुत ही बहुत सुनने को मिलता है क्रिप्टोकोर्रेंसी Cryptocurrency ,रोजाना कई बार इसका जिक्र लोग करते ही रहते हैं ,संसद तक में इसका जिक्र हो रहा है और अब तो हमारी भारतीय सरकार भी इसके लिए कानून बनाने जा रही है जि समे इसको नियन्त्रिक करने की मांग भी उठ रही है ऐसे में हर व्यक्ति का हक़ बनता है कि हम इसके बारे में जाने कि क्रिप्टो करेंसी क्या है और ये करेंसी कैसे काम करती है क्योंहै लोग इसको लेकर हमेशा इतने उत्साहित रहते है और ये हमारी राष्ट्रिय करेंसी से अलग क्यों है ये करेंसी कैसे लोगो रोतों रात अमीर बना देती है। तो चलिए जानते है इस क्रिप्टोकोर्रेंसी के बारे में -

क्रिप्टो करेंसी क्या है/Cryptocurrency kya hai?

आधुनिक डिजिटल दुनियाँ में मुद्रा (Currency) ने भी एक डिजिटल रूप ले लिया है जो किसी देश के वाध्य नहीं होती क्रिप्टोकरेंसी के नाम से जानी जाती है मूलतः इसका वर्चस्व 2009 में सबके सामने आया और सबसे पहली क्रिप्टोकरेंसी बिटकॉइन थी

कैप्टोकरेंसी सभी देशों की मुद्रा के सामान एक करेंसी है जिसको हम वित्तीय लेन-देन के लिए इस्तेमाल कर सकते हैं बस सिर्फ फर्फ इतना है की यह सभी देशों क्रिप्टोक्यूरेंसी कैसे काम करती है? के सामान कागज या मेटल की नहीं होती है यह एक डिजिटल करेंसी है इसको आप सपर्श नहीं कर सकते सिर्फ ऑनलाइन माध्यम से इसमें लेन-देन कर सकते हैं एक कप्यूटर से दूसरे कम्यूटर में इसको इ-वॉलेट द्वारा भेजा जाता है यह एक decentralized करेंसी है इसमें किसी देश का नियत्रण नहीं होता है।

Cryptocurrency कैसे काम करती है?

यह एक डिजिटल करेंसी होने के कारण ऑनलाइन माध्यऐसेम से काम करती है जिसको इंटरनेट द्वारा सचालित किया जाता है

यह करेंसी कंप्यूटर प्रणाली द्वारा संचालित होती है तथा एक कंप्यूटर से दूसरे कंप्यूटर में ऑनलाइन माध्यम से ई-वॉलेट द्वारा ट्रांसफर की जाती है जिसका रिकॉर्ड कंप्यूटर को रखना होता है

यह करेंसी ब्लॉक चैन के माध्यम से विनिमय होती है इसके द्वारा किये गए ट्रांसक्शन का रिकॉर्ड पब्लिक खातों में रिकॉर्ड होता है जिसे हम बलॉक चैन के नाम से जानते हैं इसमें एक ट्रांजेक्शन को बहुत सारे कंप्यूटर से होकर गुजरना पड़ता है और एक साथ सभी कंप्यूटर इस ट्रांजेक्शन को वेरीफाई करते हैं।

एक साथ अनेकों कंप्यूटर के वेरियफिकेशन के द्वारा इसके ट्रांजेक्शन रिकॉर्ड में कोई गड़बड़ी नहीं होती है और ब्लॉक चैन से जुड़े कंप्यूटर में ट्रांसक्शन का प्रमाण होता है।

ब्लॉक चैन बहुत से विशेष पॉवर वाले कंप्यूटर का एक संग्रह होता है जिसके साथ बहुत से कंप्यूटर जुड़े होते हैं,माइनर कंप्यूटर ब्लॉकचैन को बनाते हैं जिसमे डेटा स्टोर करने की क्षमता बहुत अधिक होती है और हर ट्रांसक्शन का रिकॉर्ड बहुत आसानी से रखा जा सकता है

लोकप्रिय Cryptocurrency

दुनियाँ में क्रिप्टोकरेन्सी की संख्या 5000 से भी अधिक है उनमें से कुछ बहुत अधिक लोकप्रिय हैं जो इस प्रकार हैं -

Cryptocurrency Kya Hai? क्रिप्टोक्यूरेंसी क्या है और यह कैसे काम करती है?

क्रिप्टो करेंसी क्या है

क्रिप्टो करेंसी क्या है? बिटकॉइन पहली और सबसे प्रसिद्ध क्रिप्टोकरेंसी है। क्रिप्टोकरेंसी डिजिटल या वर्चुअल टोकन हैं जो अपने लेनदेन को सुरक्षित करने और नई इकाइयों के निर्माण को नियंत्रित करने के लिए क्रिप्टोग्राफी का उपयोग करते हैं।

बिटकॉइन 2009 में एक अज्ञात व्यक्ति या लोगों के समूह द्वारा बनाया गया था जो खुद को सातोशी नाकामोटो कहते थे। क्रिप्टोकरेंसी विकेंद्रीकृत हैं , जिसका अर्थ है कि वे सरकार या वित्तीय संस्थान के नियंत्रण के अधीन नहीं हैं।

क्रिप्टो करेंसी क्या है

क्रिप्टो करेंसी क्या है

परिचय : क्रिप्टो करेंसी क्या है और इसे क्यों बनाया गया ?

क्रिप्टोक्यूरेंसी एक डिजिटल या आभासी मुद्रा है जो अपने लेनदेन को सुरक्षित करने और नई इकाइयों के निर्माण को नियंत्रित करने के लिए क्रिप्टोग्राफी का उपयोग करती है। क्रिप्टोकरेंसी विकेंद्रीकृत हैं , जिसका अर्थ है कि वे सरकार या वित्तीय संस्थान के नियंत्रण के अधीन नहीं हैं। बिटकॉइन , पहली और सबसे प्रसिद्ध क्रिप्टोकरेंसी में से एक , 2009 में बनाया गया था।

बिटकॉइन : यह कैसे काम करता है और इसे कहां से खरीदें

क्रिप्टोक्यूरेंसी एक डिजिटल या आभासी मुद्रा है जो अपने लेनदेन को सुरक्षित करने और नई इकाइयों के निर्माण को नियंत्रित करने के लिए क्रिप्टोग्राफी का उपयोग करती है। क्रिप्टोकरेंसी विकेंद्रीकृत हैं , जिसका अर्थ है कि वे सरकार या वित्तीय संस्थान के नियंत्रण के अधीन नहीं हैं। बिटकॉइन , पहली क्रिप्टोक्यूरेंसी , 2009 में बनाई गई थी।

क्रिप्टोकरेंसी का अक्सर विकेन्द्रीकृत एक्सचेंजों पर कारोबार किया जाता है और इसका उपयोग वस्तुओं और सेवाओं को खरीदने के लिए भी किया जा सकता है। बिटकॉइन सबसे लोकप्रिय क्रिप्टोक्यूरेंसी है और इसे कॉइनबेस और जेमिनी जैसे एक्सचेंजों पर खरीदा जा सकता है। Ethereum, Litecoin और Bitcoin Cash भी लोकप्रिय क्रिप्टोकरेंसी हैं जिन्हें विभिन्न एक्सचेंजों पर खरीदा जा सकता है।

एथेरियम : यह क्या है और इसका उपयोग कैसे करें

क्रिप्टोकरेंसी डिजिटल या वर्चुअल टोकन हैं जो अपने लेनदेन को सुरक्षित करने और नई इकाइयों के निर्माण को नियंत्रित करने के लिए क्रिप्टोग्राफी का उपयोग करते हैं। क्रिप्टोकरेंसी विकेंद्रीकृत हैं , जिसका अर्थ है कि वे सरकार या वित्तीय संस्थान के नियंत्रण के अधीन नहीं हैं। बिटकॉइन , पहली और सबसे प्रसिद्ध क्रिप्टोक्यूरेंसी , 2009 में बनाई गई थी। एथेरियम एक नई क्रिप्टोकरेंसी है जो ब्लॉकचेन तकनीक का भी उपयोग करती है।

क्रिप्टोकरेंसी का उपयोग वस्तुओं और सेवाओं को खरीदने के लिए किया जा सकता है , या निवेश के रूप में रखा जा सकता है। क्रिप्टोकरेंसी का अक्सर विकेन्द्रीकृत एक्सचेंजों पर कारोबार किया जाता है और इसका उपयोग नई क्रिप्टोकरेंसी बनाने के लिए भी किया जा सकता है।

लाइटकॉइन : एक संक्षिप्त अवलोकन

क्रिप्टोकरेंसी डिजिटल या वर्चुअल टोकन हैं जो अपने लेनदेन को सुरक्षित करने और नई इकाइयों के निर्माण को नियंत्रित करने के लिए क्रिप्टोग्राफी का उपयोग करते हैं। क्रिप्टोकरेंसी विकेंद्रीकृत हैं , जिसका अर्थ है कि वे सरकार या वित्तीय संस्थान के नियंत्रण के अधीन नहीं हैं। बिटकॉइन , पहली और सबसे प्रसिद्ध क्रिप्टोक्यूरेंसी , 2009 में बनाई गई थी।

क्रिप्टोकरेंसी का अक्सर विकेन्द्रीकृत एक्सचेंजों पर कारोबार किया जाता है और इसका उपयोग वस्तुओं और सेवाओं को खरीदने के लिए भी किया जा सकता है। बिटकॉइन सबसे लोकप्रिय क्रिप्टोक्यूरेंसी है , लेकिन लिटकोइन , रिपल , एथेरियम और बिटकॉइन कैश सहित हजारों अन्य हैं। क्रिप्टोकरेंसी अक्सर अस्थिर होती हैं और बड़ी कीमतों में उतार – चढ़ाव का अनुभव कर सकती हैं।

निष्कर्ष

अंत में , क्रिप्टोक्यूरेंसी एक डिजिटल या आभासी मुद्रा है जो अपने लेनदेन को सुरक्षित करने और नई इकाइयों के निर्माण को नियंत्रित करने के लिए क्रिप्टोग्राफी का उपयोग करती है। क्रिप्टोक्यूरेंसी विकेंद्रीकृत है , जिसका अर्थ है कि यह सरकार या वित्तीय संस्थान के नियंत्रण के अधीन नहीं है। यह कई उपयोगकर्ताओं के लिए एक आकर्षक विकल्प बनाता है जो पारंपरिक मुद्रा के विकल्प की तलाश में हैं। जबकि क्रिप्टोकुरेंसी अभी भी अपने शुरुआती चरण में है , इसमें हमारे सोचने और पैसे का उपयोग करने के तरीके में क्रांतिकारी बदलाव करने की क्षमता है।

क्रिप्टो व्यापार करना सीखें

Learn to Trade Crypto

निवेशक क्रिप्टोक्यूरेंसी ट्रेडिंग को पसंद हैं क्योंकि वे बहुत अस्थिर हैं और यदि बाजार में सही ढंग से समय बद्ध हैं, तो ट्रेडिंग क्रिप्टो मुद्राएं पारंपरिक निवेशों की तुलना में बहुत अधिक रिटर्न ला सकती हैं। यह मत भूलो कि क्रिप्टोकरेंसी ट्रेडिंग अपनी अस्थिर प्रकृति के कारण जोखिम भरा और लाभदायक दोनों है। वैसे हेजिंग या डाइवर्सिंग से रिस्क कम किया जा सकता है.

क्रिप्टो मुद्रा व्यापार एक सीएफडी ट्रेडिंग खाते के माध्यम से किया जा सकता है या एक्सचेंज के माध्यम से आधार सिक्के खरीदने और बेचने के लिए किया जा सकता है। क्रिप्टो मुद्रा सीएफडी ट्रेडिंग व्यापारियों को अंतर्निहित सिक्कों के मालिक बनने के बिना क्रिप्टो मुद्राओं के मूल्य आंदोलनों पर अनुमान लगाने की अनुमति देता है.

व्यापारी लंबे या छोटे हो सकते हैं यदि उन्हें लगता है कि क्रिप्टोक्यूरेंसी मूल्य में वृद्धि या गिरावट आएगी। क्रिप्टो मुद्रा CFDs को उत्तोलन के साथ कारोबार किया जा सकता है, हालांकि लाभ या हानि की गणना अभी भी आपके पूर्ण स्थिति आकार के अनुसार की जाती है, इसलिए उत्तोलन लाभ और हानि दोनों को बढ़ाता.

जैसा कि आप देख सकते हैं, क्रिप्टो मुद्राओं का व्यापार करना काफी मुश्किल है.

लेकिन यह उतना कठिन नहीं है जितना कि यह ध्वनि हो सकता है.
लेट देखें कि यह कैसे काम करता है

क्रिप्टो मुद्रा व्यापार के बारे में जानें

क्रिप्टो करेंसी के साथ व्यापार करना सीखना भ्रमित हो सकता है। आइए देखें कि क्या हम आपको क्रिप्टो के साथ अधिक आरामदायक व्यापार महसूस करने में मदद करने के लिए मूल बातें तोड़ सकते हैं.

जैसा कि हमने पहले कहा था कि क्रिप्टो मुद्रा के साथ कोई भी व्यापार जोखिम का एक बड़ा सौदा के साथ आता है, क्योंकि यहां तक कि अधिक लोकप्रिय क्रिप्टो मुद्राओं की अस्थिरता काफी अप्रत्याशित हो सकती है, जो एक जोखिम है जिसे प्रबंधित किया जा सकता है, लेकिन हम इसके बारे में एक और लेख में बात करेंगे.

नोट: हमेशा उतना ही निवेश करें जितना आप खोने का जोखिम उठा सकते हैं, और अधिक नहीं

क्रिप्टो करेंसी क्या है कैसे काम करती है | CryptoCurrency In Hindi (June 2022)

CryptoCurrency Kya Hai In Hindi: वर्तमान समय में क्रिप्टोकरंसी बहुत ही चर्चा का विषय बन रहा है और दिन प्रतिदिन इसकी लोकप्रियता बढ़ती ही जा रही है पर क्या आप जानते हैं क्रिप्टो करेंसी क्या है कैसे काम करती है | CryptoCurrency In Hindi (June 2022) , इसका इतिहास क्या है और इसके फायदे और इसके नुकसान

दोस्तों आज मैं आपको क्रिप्टो करेंसी के बारे में बहुत ही आसान भाषा से समझाने वाला हूं क्रिप्टो करेंसी दो शब्दों से मिलकर बना हुआ है जिसमें क्रिप्टो का मतलब छिपा हुआ या गोपनीय होता है और करेंसी का मतलब मुद्रा या पैसा होता है

CryptoCurrency In Hindi

cryptocurrency in detail

Table of Contents

क्रिप्टो करेंसी क्या है ( CryptoCurrency In Hindi )

क्रिप्टो करेंसी एक वर्चुअल करेंसी तथा डिजिटल करेंसी है जिसे आप आम करंसी जेसे रुपए और डॉलर के तरह नहीं ना छू सकते हो ना ही पकड़ सकते हो क्योंकि यह एक डिजिटल करेंसी है जो सिर्फ ऑनलाइन कंप्यूटर में ही दिखती है और यह डिजिटल वॉलेट में सेव रहती है सबसे ज्यादा लोकप्रिय करेंसी बिटकॉइन है, जिसे आप अच्छे से जानते होंगे बिटकॉइन का पेमेंट भी एक कंप्यूटर से दूसरे कंप्यूटर में ऑनलाइन ही होता हैक्रिप्टो करेंसी एक ऐसी करेंसी है जिस पर किसी भी गवर्नमेंट अथॉरिटी या किसी भी देश या एजेंसी का कोई कंट्रोल नहीं है इसको कंट्रोल सब लोग करते हैं जो लोग इसे खरीदते हैं तथा जो लोग इसे बेचते हैं

क्रिप्टो करेंसी कैसे काम करती

क्रिप्टो करेंसी ब्लॉकचेन तकनीक के माध्यम से काम करती है जो इंक्रिप्टेड मतलब कोडेड होती है जिसे बहुत पावरफुल कंप्यूटर के द्वारा कंट्रोल किया जाता है

क्रिप्टो करेंसी का इतिहास

क्रिप्टो करेंसी की खोज संतोषी नाकामोतो ने 2008 में करी थी लेकिन आज तक यह नहीं पता चल पाया कि जो संतोषी नाकामोतो है क्या वह एक समूह है , क्या यह कोई व्यक्ति है और इन्होंने क्यों क्रिप्टोकरंसी को बनाया और यह कहां रहते हैं और कई ऐसे सवालों के जवाब आज तक किसी के पास नहीं हैक्रिप्टोकरंसी की खोज 2008 में होने के बाद इसका पहली बार मुद्रा के रूप में इसका इस्तेमाल 2009 में किया गया था और सबसे पहले क्रिप्टोकरंसी का नाम बिटकॉइन था जिसको संतोषी नाकामोतो ने बनाया था उस समय बिटकॉइन की कीमत मात्र ₹0 थी लेकिन आज एक बिटकॉइन की कीमत लगभग 23 लाख रुपया है

सबसे ज्यादा लोकप्रिय क्रिप्टोकरंसी बिटकॉइन

बिटकॉइन तो मानो जैसे एक ट्रेंड बन चुका है जिस किसी से भी क्रिप्टोकरंसी के बारे में पूछो तो वह सबसे पहले बिटकॉइन का नाम ही लेता है और ले भी क्यों ना क्योंकि वर्तमान समय में संसार का सबसे ज्यादा मूल्यवान और सबसे ज्यादा लोकप्रिय क्रिप्टोकरंसी बिटकॉइन ही है दूसरे नंबर में सबसे ज्यादा लोकप्रिय क्रिप्टोकरंसी का नाम एथेरियम है और इसकी जैसी कई लोकप्रिय क्रिप्टोकरंसी संसार में मौजूद है अब आपने बिटक्वॉइन, डॉजक्वाइन, लाइटक्वाइन, पोलकाडॉट, चेनलिंक, मूनक्वाइन लेकिन बिटकॉइन शुरू से मार्केट में अपना दबदबा बनाए हुए हैं https://bitcoin.org/hi/how-it-works

कितने तरह की होती है क्रिप्टोकरेंसी?

पूरी दुनिया में इस समय 18,000 क्रिप्टो करेंसी मौजूद है और जैसे-जैसे इसकी लोकप्रियता बढ़ती जा रही वैसे वैसे इसकी संख्या भी दिन प्रतिदिन बढ़ती ही जा रही है और और इनमें से सबसे ज्यादा लोकप्रिय या पॉपुलर क्रिप्टो करेंसी बिटकॉइन है और वर्तमान समय 1 बिटकॉइन की कीमत लगभग 23 लाख भारतीय रुपए हैं और इसकी यह कीमत बढ़ती और घटती रहती है इसके अलावा दुनिया में कई और फेमस क्रिप्टोकरंसी है जिनमें लोग इन्वेस्ट करते हैं जैसे

Cryptocurrency से आरबीआई की Digital Currency अलग कैसे? किसमें निवेश फायदेमंद, कौन डुबाएगा लुटिया

Cryptocurrency vs Digital Currency: अगर आप डिजिटल करेंसी को भी क्रिप्टोकरेंसी समझने की भुल करते हैं तो आपको जान लेना चाहिए कि दोनों में क्या अंतर है और डिजिटल करेंसी किन मायनों में क्रिप्टोकरेंसी से अलग है।

Vikash Tiwary

Edited By: Vikash Tiwary @ivikashtiwary
Published on: November 06, 2022 19:38 IST

Cryptocurrency से आरबीआई की Digital Currency अलग कैसे?- India TV Hindi

Photo:INDIA TV Cryptocurrency से आरबीआई की Digital Currency अलग कैसे?

Cryptocurrency vs Digital Currency: क्रिप्टोकरेंसी और केंद्रीय बैंक डिजिटल करेंसी (CBDC) दोनों ने पूरे भारत में लाखों लोगों का ध्यान आकर्षित किया है। डिजिटल एसेट्स के रूप में सामान्य स्थिति के बावजूद दोनों में काफी अंतर है। पूर्व वित्त सचिव एससी गर्ग का मानना है कि सीबीडीसी डीमैटरियलाइज्ड बैंक नोट की तरह होता है, और उसका क्रिप्टोकरेंसी से कोई लेना-देना नहीं है।

सीबीडीसी डिजिटल कॉइन क्रिप्टो का भविष्य

क्रिप्टोकरेंसी को दुनिया मुद्रा के रूप में स्वीकार नहीं कर सकती है। हालांकि, सीबीडीसी जैसे रेगुलेटेड डिजिटल कॉइन क्रिप्टो का भविष्य हो सकते हैं। मैकिन्से ने कहा कि पिछले कुछ वर्षों में स्टेबल कॉइन के प्रचलन में तेजी से वृद्धि के साथ केंद्रीय बैंकों ने अपनी स्टेबल डिजिटल करेंसी का पता लगाने के प्रयास तेज कर दिए हैं।

आरबीआई द्वारा जारी किया गया डिजिटल टोकन

सीबीडीसी क्रिप्टोक्यूरेंसी कैसे काम करती है? या भारतीय ई-रुपया आरबीआई द्वारा जारी किया गया एक डिजिटल टोकन है और यह देश की फिएट करेंसी से जुड़ा हुआ है। ब्लॉकचैन विशेषज्ञों के एक समूह ब्लॉकचैन काउंसिल का कहना है कि क्रिप्टोकरेंसी और ब्लॉकचैन टेक्नोलॉजी के विकास ने कैशलेस सोसाइटी और डिजिटल करेंसी में रुचि बढ़ा दी है, जिसके चलते दुनिया भर की सरकारें और केंद्रीय बैंक सरकार समर्थित डिजिटल करेंसी के उपयोग पर विचार कर रहे हैं।

सीबीडीसी के ये हैं बड़े फायदे

सीबीडीसी का प्राथमिक उद्देश्य कंपनियों और उपभोक्ताओं को गोपनीयता, हस्तांतरणीयता, सुगमता और वित्तीय सुरक्षा प्रदान करना है। काउंसिल का कहना है, सीबीडीसी एक जटिल वित्तीय क्रिप्टोक्यूरेंसी कैसे काम करती है? प्रणाली के लिए आवश्यक रखरखाव को भी कम करता है, सीमा पार लेनदेन लागत में कटौती करता है और उन लोगों को कम लागत वाले विकल्प देता है जो अब दूसरे धन हस्तांतरण विधियों का उपयोग करते हैं।

क्रिप्टोकरेंसी और डिजिटल करेंसी में ये है अंतर

केंद्रीय बैंकों द्वारा जारी डिजिटल करेंसी अपने मौजूदा स्वरूप में डिजिटल मुद्राओं के उपयोग से जुड़े खतरों को भी कम करती है। दूसरी ओर क्रिप्टोकरेंसी बहुत अस्थिर है, उनका मूल्य हर समय बदलता रहता है। उपयोग के मामलों के संदर्भ में क्रिप्टोकरेंसी को संपत्ति और मुद्रा दोनों के रूप में वगीर्कृत किया जाता है। क्रिप्टोकरेंसी के प्राइस पर अटकलें लगाने के लिए व्यक्ति निवेश बाजारों में हिस्सा ले सकता है। वे खुद को मुद्रास्फीति और आर्थिक अस्थिरता से बचाने के लिए बिटकॉइन जैसी विशेष परियोजनाओं का भी उपयोग कर सकते हैं।

बिटकॉइन और एथेरियम का उपयोग कोई भी लेनदेन और भुगतान करने के लिए कर सकता है। काउंसिल के अनुसार, आज पहले से कहीं अधिक व्यापारी और स्टोर क्रिप्टोकरेंसी पेमेंट स्वीकार करते हैं। सीबीडीसी और क्रिप्टोकरेंसी के बीच कई विरोधाभास हैं।

रेटिंग: 4.71
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 393