किसी शेयर का स्टॉप लॉस (Stop Loss) वह मूल्य है जिस पर आपको ज्यादा नुकसान नहीं होता है. वास्तव में आप किसी शेयर की मौजूदा कीमत पर उसमें संभावित नुकसान की सीमा तय कर लेते हैं. इसके बाद ही आप स्टॉप लॉस (Stop Loss) लगाते हैं, जिससे आपका नुकसान कम हो जाता है.

मार्जिन क्या है, sebi new margin rules, New Peek Margin कैसे काम करता है, New Peak Margin Rule For Delivery & Intraday In Hindi, सेबी के नए नियम, sebi new margin rules intraday, new margin rules sebi, sebi peak margin latest news, new margin rules sebi zerodha, sebi new margin rules latest news, sebi new margin rules explained, new margin rules sebi in hindi, What are new Sebi margin rules, What are new margin rules, What is new Sebi rules for intraday trading, How much margin is required for delivery, SEBI new margin rules in hindi,

Hot Stocks: शॉर्ट टर्म में हासिल करना चाहते हैं डबल डिजिट रिटर्न तो इन शेयरों पर लगाएं दांव

Moneycontrol लोगो

Moneycontrol 01-12-2022 Moneycontrol Hindi

© Moneycontrol द्वारा प्रदत्त Hot Stocks: शॉर्ट टर्म में हासिल करना चाहते हैं डबल डिजिट रिटर्न तो इन शेयरों पर लगाएं दांव Kunal Shah-Senior Technical & Derivative Analyst-LKP Securities 30 नवंबर को इंट्राडे में निफ्टी ने नया ऑल-टाइम हाई बनाया। कल बाजार में पूरे दिन बुल्स का दबदबा रहा। पिछले दो कारोबारी सत्रों के विपरीत निफ्टी में कल के कारोबार में जोरदार तेजी देखने को मिली। मोमेंटम ऑसीलेटर RSI (relative strength index) ने कल फॉलिंग ट्रे़ंडलाइन ब्रेकआउट दिया। इसके सभी अहम शॉर्ट टर्म मूविंग एवरेज इंडेक्स वैल्यू के नीचे जमे हुए हैं जो पॉजिटिव ट्रेंड की पुष्टि कर रहे हैं। अब निफ्टी जब तक 18600 के ऊपर बना रहेगा तब तक बाजार का ट्रेंड बुलिश बना रहेगा। अब निफ्टी के लिए सपोर्ट खिसक कर ऊपर की तरफ आ गया है। वहीं, ऊपर की तरफ निफ्टी के लिए 18800-19000 के जोन में रजिस्टेंस नजर आ रहा है। Trade Spotlight: ओबेरॉय रियल्टी,जिंदल स्टील एंड पावर और इक्विटास स्मॉल फाइनेंस बैंक में आज क्या करें? Bank Nifty इंडेक्स 43000-43500 के छोटे दायरे में घूम रहा है। यहां तेजड़ियो और मंदड़ियों में खींचतान देखने को मिल रही है। हालांकि इसका अंडरटोन बुलिश है। जब तक बैंक निफ्टी में 42800 का सपोर्ट बना रहता है तब तक इसमें गिरावट पर खरीद की रणनीति पर कायम रहना चाहिए। Bank Nifty में अच्छी तेजी तभी आएगी जब ये क्लोजिंग बेसिस पर 43500 का स्तर पार कर लेगा। LKP Securities के कुणाल शाह के तीन पसंदीदा स्टॉक्स जिनमें शॉर्ट टर्म में हो सकती है डबल डिजिट कमाई UltraTech Cement: Buy | LTP: Rs 7,077 | अल्ट्राटेक सीमेंट में 6900 रुपए के स्टॉपलॉस के साथ, 7300-7500 रुपए के लक्ष्य के लिए खरीदारी करें। शॉर्ट टर्म में इस स्टॉक में 6 फीसदी का रिटर्न मिल सकता है। Colgate Palmolive: Buy | LTP: Rs 1,632 | कॉलगेट पामोलिव में 1580 रुपए के स्टॉपलॉस के साथ, 1690-1710 रुपए के लक्ष्य के लिए खरीदारी करें। शॉर्ट टर्म में इस स्टॉक में 5 फीसदी का रिटर्न मिल सकता है। Bharat Dynamics: Buy | LTP: क्या मैं इंट्राडे में 1000 शेयर खरीद सकता हूँ Rs 969 | भारत डायनामिक्स में 930 रुपए के स्टॉपलॉस के साथ, 1000-1030 रुपए के लक्ष्य के लिए खरीदारी करें। शॉर्ट टर्म में इस स्टॉक में 11 फीसदी का रिटर्न मिल सकता है। डिस्क्लेमर: मनीकंट्रोल.कॉम पर दिए गए विचार एक्सपर्ट के अपने निजी विचार होते हैं। वेबसाइट या मैनेजमेंट इसके लिए उत्तरदाई नहीं है। यूजर्स को मनी कंट्रोल की सलाह है कि कोई भी निवेश निर्णय लेने से पहले सर्टिफाइड एक्सपर्ट की सलाह लें।

Moneycontrol की और खबरें

इस साल 50% गिरे इस रोड कंस्ट्रक्शन कंपनी के शेयर, लेकिन अब 27% की आ सकती है तेजी, ब्रोकरेज ने दी BUY की सलाह

Himachal CM: सुखविंदर सिंह सुखु होंगे हिमाचल प्रदेश के नए CM, मुकेश अग्निहोत्री को बनेंगे डिप्टी सीएम, कांग्रेस अलाकमान ने लिया फैसला

New Margin Rule क्या है ?

New Margin Rule, जो stock broker द्वारा अपने clients को trading कराने के लिए provide कराया जाता था, उसे क्रमसः 25%, 50%, 75%, 100% चार चरणों में ख़त्म कर दिया जायेगा। यानी अब client को trade करने के लिए उसे खुद का पैसा अपने demat account में रखना अनिवार्य होगा। अन्यथा वह stock market में trade क्या मैं इंट्राडे में 1000 शेयर खरीद सकता हूँ नहीं कर पायेगा।

अब client को ट्रेड करने के लिए उसे खुद का margin अपने Demat account में रखना पड़ेगा तभी वह trade कर पायेगा। ऐसा कर पाना एक retail trader के लिए भारी चुनौती भरा काम हो सकता है। क्योंकि रिटेल ट्रेडर के लिए पर्याप्त मात्रा में fund जुटाना आसान नहीं होता।

इसे यदि हम आसान भाषा में समझे तो पहले यदि आपके पास 1000 रुपये होते थे तो आपका stock broker आपको trade कराने के लिए 20 गुना margin provide करा देते थे और आप एक 1000 रुपये होते हुए भी 20,000 हजार रुपये तक की trading कर सकते थे।

Margin क्या है ?

शेयर मार्केट में margin का मतलब उधार होता है। यह margin स्टॉक ब्रोकर द्वारा अपने clients को trading कराने के लिए provide कराया जाता है। ताकि traders ज्यादा संख्या में trade कर पाएं और वह brokers clients से ज्यादा revenue generate कर पाएं।

यह market से 5 गुना, 10 गुना, 20 गुना तक हो सकता है। यह broker पर निर्भर करता है कि – वह कितने गुना तक margin अपने clients को provide करा सकता है।

New Peak Margin Rule For Delivery & Intraday In Hindi

पहले जब सेबी का new peak margin rule नहीं आया था; तब आप पूर्व में ख़रीदे गए किसी भी stock holding को sell करते थे। तो sell किये हुए stocks की जितनी कीमत होती थी वह पूरा amount आपके Demat Account में show हो जाता था।

लेकिन new peak margin rule आ जाने से अब ऐसा नहीं है अब आप अपनी जो भी holding sell करेंगे उसका 80% आपके Demat account में दिखाई देगा। आप उस 80% amount को ही उसी दिन (sameday) इंट्राडे में उपयोग कर पाएंगे बाकी का 20% amount अगले दिन आपके demat accont में show होगा।

लेकिन अब Intra-day trading के लिए stock Broker द्वारा आपको 1 सितंबर से किसी भी प्रकार से मार्जिन provide (उपलब्ध) नहीं करायी जाएगी। अब आपको Intra-Day में ट्रेडिंग करने के लिए अपने Demat account में पूरा Fund रखना होगा। तभी आप इंट्राडे ट्रेडिंग कर पाएंगे।

अंतिम राय –

सेबी का यह New margin rule आम तौर पर बड़े ट्रेडर के लिए ठीक है किन्तु यह retail traders के लिए मुश्किलें खड़ा कर सकता है। क्योंकि एक retail trader के लिए इतना ज्यादा fund जुटा पाना संभव नहीं होता। ऐसे में मार्केट से ज्यादातर Retail ट्रेडर्स गायब हो जायेंगे।

अतः सेबी को 100% margin rule को 33%-50% तक कर देना चाहिए ताकि एक retail trader को भी ट्रेड करने में आसानी हो।

उम्मीद है कि आप New Margin क्या है ? जान गए होंगे लेकिन फिर भी यदि आपको कोई doubts हो तो आप comment कर पूछ सकते सकते है। यदि आप भी हिंदी से प्यार करते है तो इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर जरूर करे।

सर्दी आ गई है. कॉटन के कपड़ों का ऐसे रखेंगे ध्यान तो बनी रहेगी उनकी चमक, जान लीजिए ये ट्रिक

Cotton Clothes Cure:कॉटन के कपड़े काफी आरामदायक होते हैं और उनमे पसीना भी बहुत कम आता है. लेकिन सिर्फ अच्छे कॉटन का कपड़ा खरीद लेना ही काफी नहीं होता. अगर आप चाहते हैं की आपकी कॉटन की शर्ट या फिर कुर्ती लम्बे समय तक चले और नए जैसी लगे तो आपको कुछ चीज़ों का ध्यान रखने की ज़रूरत है.

Cotton Clothes: Handle with care

ठंड ने दस्तक दे दी है. दूसरे शब्दों में कहूं तो ‘Winter is coming’. हर घर में गरम कपड़े और कंबलों- रजाइयों को धूप दिखाई जा रही है. ऐसे में मैंने अपने गर्मी के कपड़ो को संभाल कर रखने का सोचा. इस वीक ऑफ पर मैंने अपना वॉर्डरोब सेट किया. जो की खुद में बहुत बड़ा और हिम्मत वाला काम लगता है. मुझे वॉर्डरोब सेट करते हुए कई ऐसे कपड़े मिले जो मझे बहुत पसंद थे लेकिन अब मैं उन्हें पहन नहीं पाती हूँ. मुझे उन्हें धोने का सही तरीका नहीं पता था, इस वजह से वो कपड़े या तो खराब हो गए है या फिर सिकुड़ गए. उनमे से ज़्यादा तर कपड़े कॉटन के थे.
गर्मी और बरसात के मौसम में ज़्यादातर लोग कॉटन के कपड़े पहनना प्रेफर करते हैं. कॉटन के कपड़े काफी आरामदायक होते हैं और उनमे पसीना भी बहुत कम आता है. लेकिन सिर्फ अच्छे कॉटन का कपड़ा खरीद लेना ही काफी नहीं होता. अगर आप चाहते हैं की आपकी कॉटन की शर्ट या फिर कुर्ती लम्बे समय तक चले और नए जैसी लगे तो आपको कुछ चीज़ों का ध्यान रखने की ज़रूरत है. उनकी सही तरीके से धुलाई से लेकर उनके रख-रखाव तक, कई बातों का ध्यान रखना पड़ता है. इसके लिए कुछ एक्स्ट्रा आर्डिनरी करने की कोई ज़रूरत नहीं है. छोटी छोटी चीज़ों से भी आपका क्या मैं इंट्राडे में 1000 शेयर खरीद सकता हूँ काम बन जायेगा.आइये जानते है कैसे कॉटन के कपड़ो को अच्छे से रखें.

कपड़े के लेबल को ज़रूर पढ़ लें

जब भी आप कॉटन के कपड़े को पहली बार वाश करें तो उसपे लगे लेबल को ज़रूर पढ़े. इस लेबल पर कपड़े को सही तरीके से धोने का तरीका बताया होता है. जैसे कि कपड़े को अगर सिर्फ ड्राई क्लीन करवाना होगा तो लिखा होगा ‘ड्राई क्लीन ओनली’. इन लेबल्स पर कई तरीके के साइन बने हुए होते है, जिन्हें सही से समझना कपड़ों को अच्छी हालत में रखने के लिए बहुत ज़रूरी है.

कॉटन के कपड़े के साथ एक दिक्कत होती है की वो धोने के बाद कई बार सिकुड़ जाते हैं. कॉटन के कपड़ो को खरीदने से पहले भी इस बात का ध्यान रखना चाहिए और साइज उसी हिसाब से चूज़ करना चाहिए. अगर क्या मैं इंट्राडे में 1000 शेयर खरीद सकता हूँ आपने कोई कुरता बनवाने दिया है और कपड़ा बिना धोये बना दिया गया हो तो वो एक वाश बाद सिकुड़ जायेगा. इस सिकुड़ने का कारण होता है कपड़े को गरम पानी से धोना. कॉटन के कपड़ों को कभी भी गरम पानी में नहीं धोना चाहिए. इससे वो सिकुड़ते तो है ही, साथ में उनका रंग भी निकलता है और कपड़े का धागा भी कमज़ोर पड़ सकता है जिससे की कपड़ा जल्दी फटता है.

कपड़ों को हलकी धूप में ही सुखाएं

हल्के या सफ़ेद रंग के कॉटन के कपड़ो को धोने के बाद हल्के से निचोड़े, और फिर इनको हल्की धूप में ही सुखाएं. तेज़ धूप में सूखाने से बचें. इससे कपड़ों का रंग भी नहीं उतरेगा और वो सिकुड़ेंगे भी कम.

सही डिटर्जेंट का चुनाव बहुत ज़रूरी है. कपड़े धोने के लिए हमेशा माइल्ड डिटर्जेंट का प्रयोग करना चाहिए. हार्श डिटर्जेंट से कपड़े कमज़ोर हो जाते है और उनमें पीलापन भी आता है. इसके साथ साथ आप मार्किट में मौजूद कपड़ो के आफ्टर वाश फैब्रिक कंडीशनर का भी इस्तेमाल कर सकते हैं. कपड़े धोने के बाद बस कुछ देर उनको इस कंडीशनर में भिगो दें और फिर सूखा लीजिये.

क्या है Stop Loss और Target Price?

A man walks out of the Bombay Stock Exchange (BSE) building in Mumbai

Stop Loss का इस्तेमाल इसलिए किया जाता है ताकि शेयर बाजार के उतार-चढ़ाव के दौर में आप नुकसान से बच सकें

इसका मतलब यह है कि आपने 100 रुपये की कीमत पर ए के शेयर को 120 रुपये के Target Price के साथ खरीदा है. आप 120 रुपये की कीमत पर पहुंचने पर इस शेयर को बेचकर मुनाफा हासिल कर सकते हैं.

इस शेयर में किसी वजह से गिरावट भी आ सकती है. इसकी कीमत 100 रुपये से कम होने पर आपको नुकसान उठाना पड़ेगा. नुकसान से बचने के लिए आपको स्टॉप लॉस (Stop Loss) लगाने की सलाह दी जाती है.

Trading Account कैसे बनायें?

दोस्तों, ट्रेडिंग के लिए Trading Account भी बनाए जाते हैं, और यह Account Online Documents Submit करके बनाये जा सकते हैं। स्टॉक ट्रेडिंग अकाउंट बनाने के लिए आपको एक Stock Broker की जरूरत होगी, जो आपका ट्रेडिंग और डीमैट अकाउंट बनाए।

पहले के समय में यह Account Offline बनाया जाता था, लेकिन अभी कई Company है, जो ऑनलाइन ट्रेडिंग खाता बनाते है, जैसे Upstox, क्या मैं इंट्राडे में 1000 शेयर खरीद सकता हूँ Angelone, Zerodha, Coinswitch etc.

दोस्तों, यह Account Zero Fees के साथ Open किये जाते है, हालांकि इसके लिए आपको अपनी बैंक डायर व पैन कार्ड देना होगा, जिससे आप अपनी KYC पूरी करेंगे। लेकिन ध्यान दे कि KYC के लिए कई Froud होते हैं, पहले Stock Broker का कोई भी Company से संबंधित प्रूफ मांगे और उसके बाद अपनी जानकारी दे। इसके अलावा उनके साथ OTP, Password और User ID बिल्कुल Share न करें।

Trading Account बनाने के लिए जरूरी डाक्यूमेंट्स

दोस्तों, ट्रेडिंग अकाउंट बनाने के लिए कुछ जरूरी डाक्यूमेंट्स की भी जरूरत क्या मैं इंट्राडे में 1000 शेयर खरीद सकता हूँ होती है जैसे कि –

  • बैंक की डायरी
  • पैन कार्ड
  • आधार कार्ड
  • वोटर आईडी/ड्राइविंग लाइसेंस
  • डीमैट अकाउंट के लिए 18 साल होनी चाहिए

Trading के प्रकार

दोस्तों, Trading काफी लोकप्रिय हो चुकी है और आज के समय में ट्रेडिंग बहुत तरीके से की जा रही है। हमने क्या मैं इंट्राडे में 1000 शेयर खरीद सकता हूँ बताया था कि यह एक Mind Game हैं, और वर्ल्ड में सभी लोगों के सोचने का तरीका अलग-अलग होता है हमरे कहने का मतलब है कि ट्रेडिंग के बहुत से प्रकार होते हैं, और ट्रेडिंग को अलग-अलग तरीकों से करने के आधार पर बनाये गये है।

  • Scalping Trading
  • Positional Trading
  • Intraday Trading
  • Swing Trading

1. Scalping Trading

दोस्तों, इस तरह की ट्रेडिंग में बहुत कम Time मिलता है और बहुत ज्यादा Quantity में Share खरिदे व बेंचे जाते हैं। मतलब आपको किसी भी Share को खरिदने के लिए सिर्फ 2 Min या 3 Min का Time दिया जाता है, जिसमें यह Decide करना है, कि सामने वाली Company के Share खरिदने है या नही।

Trading से पैसे क्या मैं इंट्राडे में 1000 शेयर खरीद सकता हूँ कैसे कमाएं 2022

दोस्तों, अब तक आप लोगो को पता चल गया होगा कि Trading क्या है? लेकिन ट्रेडिंग कैसे करें और ऑनलाइन ट्रेडिंग से पैसे कैसे कमाएं? तो ट्रेडिंग से पैसे कमाने के लिए आपके पास Demate Account और एक Trading Account होना चाहिए। वर्तमान समय में बहुत सारी कम्पनियाँ Application और Website के द्वारा Demate Account व Trading Account बनाती हैं, जैसे Upstox, Samaco, Angelone, Kavy, Motilal Oswal Online Etc.

दोस्तों, Account बनाने के बाद आप Broker से Help लें सकते हैं, जो आपको बताया कि आप किस Company के Share खरीद सकते है और बेच सकते हैं। हालांकि आप यह काम खुद भी कर सकते हैं, अगर आपके पास जानकारी है तो। हमारा मानना है कि आप शुरूआती समय में Broker का सहायता लें, और छोटे निवेश से जानकारी प्राप्त करें।

ट्रेडिंग का मतलब सही Time पर Stock को चुनना होता है और उनके Share को खरीदना होता है। इसके साथ ही उन ख़रीदे हुए Share को सही TIme पर Sell करना भी होता है। अत: ट्रेडिंग का पुरा खेल सही समय पर सही Stock के Share को खरीदना व बेचना है।

रेटिंग: 4.41
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 366